जानिए शिवजी की पूजा में क्या नहीं चढ़ाना चाहिए

जानिए शिवजी की पूजा में क्या नहीं चढ़ाना चाहिए जानिए शिवजी की पूजा में क्या नहीं चढ़ाना चाहिए क्या आप जानते है की सोमवार को शिवजी की पूजा करने जाते है तो ऐसी बहुत सी चीजें चढ़ाई जाती हैं जो अन्‍य किसी देवता को नहीं चढ़ाई जाती है यथा –
आक,
बिल्वपत्र,
भांग
धतूरा
इत्यादि इसी प्रकार पूजा करते समय हमें इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए की वैसी कौन-कौन चीज है जिसे शिवजी की पूजा में नही चढ़ानी चाहिए। यदि आप शिवजी की पूजा में नही चढाने वाली वस्तु को चढ़ाते है तो उसका विपरीत फल मिलता है तथा आपकी मनोकामनाएं भी पूर्ण नहीं होंगी । अतः आइये आज हम आपको बताते है की ‘शिवपुराण के अनुसार” शिव पूजा में कौन कौन सी वस्तु नहीं चढ़ानी चाहिए।

 

ॐ नमः शिवाय | Om Namah Shivay |ॐ नमः शिवाय

हल्‍दी | Turmeric 

जानिए शिवजी की पूजा में क्या नहीं चढ़ाना चाहिए

हल्दी का प्रयोग प्रायः शुभ कार्यो के लिए किया जाता है लेकिन शिवजी की पूजा में हल्दी नहीं चढ़ाना चाहिए। शास्त्रानुसार शिवलिंग पुरुषत्व का प्रतीक है, इसी कारण से शिवजी को हल्दी नहीं चढ़ाई जाती है।

 फूल | Flower 

जानिए शिवजी की पूजा में क्या नहीं चढ़ाना चाहिए

शिव को केतकी और कवड़ा का फूल नहीं चढ़ाना चाहिए इसके अतिरिक्त शिव जी को लाल पुष्प तथा कमल का फूल भी प्रिय नहीं हैं अतः ऐसे फूल नहीं चढाने चाहिए।

 शंख | Conch

जानिए शिवजी की पूजा में क्या नहीं चढ़ाना चाहिए

भगवान विष्णु को शंख बहुत ही प्रिय हैं। शिव जी ने शंखचूर नामक असुर का वध किया था इस कारण भगवान शिव/महादेव की पूजा में शंख का निषेध है।

नारियल पानी | Coconut Water

जानिए शिवजी की पूजा में क्या नहीं चढ़ाना चाहिए

नारियल का प्रयोग आप शिव पूजा में कर सकते है परन्तु भगवान श‌िव का अभ‌िषेक नारियल पानी से नहीं करना चाह‌िए। इसका मुख्य कारण है कि जो भी प्रसाद चढ़ाया जाता है उसे ग्रहण भी किया जाता है परन्तु नारियल पानी से अभिषेक करने पर उसे प्रसाद के रूप में ग्रहण नहीं किया जाता है। इसी कारण शिव जी पर नारियल पानी नहीं चढ़ाना चाहिए।

तुलसी का पत्ता | Leaves of Tulshi

जानिए शिवजी की पूजा में क्या नहीं चढ़ाना चाहिए

तुलसी का पत्ता भी भगवान श‌िव जी के ऊपर नहीं चढ़ाना चाह‌‌िए। एक कथा के अनुसार असुरो का राजा जलंधर की पत्नी वृंदा तुलसी का पौधा बन गई थी। भगवान श‌िव जी ने जलंधर का वध क‌िया था इसी कारण वृंदा ने भगवान श‌िव की पूजा में तुलसी के पत्तों को नहीं चढाने का सन्देश दी थी।

कुमकुम | Kumkum

 

शास्त्रों के अनुसार शिव जी को कुमकुम और रोली नहीं लगानी चाहिए परन्तु कहीं कहीं कुमकुम का भी प्रयोग करने के लिए कहा जाता है। यथा कहा गया है —
कुमकुम चंदन लेपित लिंगम्
पंकज हार सुशोभित लिंगम् ।।
संचित पाप विनाशन लिंगम
तत्प्रणमामि सदा शिवलिंगम् ।

ॐ नमः शिवाय | ॐ नमः शिवाय | ॐ नमः शिवाय | ॐ नमः शिवाय | ॐ नमः शिवाय | 

 
Tagged with 

  • सोमवार व्रत कब और कैसे करें | Monday Fast
  • Tilak | राशि तथा दिन के अनुसार तिलक से करें भाग्यवृद्धि
  • रुद्राभिषेक का महत्त्व|Importance of Rudrabhishek
  • Mahashivratri Vrat in hindi – महाशिवरात्रि व्रत विधि
  • Nag Panchami Tyohar | नागपंचमी व्रत महत्त्व पूजा विधि
  •    

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *