ब्यूटी पार्लर के लिए वास्तु टिप्स

ब्यूटी पार्लर के लिए वास्तु टिप्स (Vastu Tips for Beauty Parlor) अपनाने पर इस व्यवसाय को सफल होने में देर नहीं लगती। आजकल ब्यूटी पार्लर महानगरों तथा नगरों के प्रत्येक मुख्य स्थान या गली मुहल्लों में अवशय ही देखने को मिल जाता है। महानगरो में ब्यूटी पार्लर का व्यवसाय तो करोड़ों का हो चूका है। अब तो महिलाओं के साथ-साथ पुरुषो में भी सौंदर्य के प्रति जागरूकता बढ़ गई है तथा पुरुष एवं महिला दोनों के लिए एक ही ब्यूटी पार्लर का भी प्रचलन बढ़ गया है। यह भारतीय संस्कृति पर पाश्चात्य सभ्यता का ही प्रभाव है अन्यथा भारतीय संस्कृति इस व्यवस्था के प्रति सकरात्मक दृष्टिकोण नहीं रखती है खैर जो भी हो समयानुकूल बदलाव होना विकास की ओर ही संकेत करता है। परिवर्तन एक शाश्वत चलने वाली प्रक्रिया है।

 

अब प्रश्न उत्पन्न होता है की क्या सभी ब्यूटी पार्लर की अंधाधुंध कमाई हो रही है या नहीं अगर व्यवसाय फल-फूल रहा है तो बहुत सुन्दर और यदि नहीं तो क्यों नहीं ? कभी-कभी ऐसा भी देखा गया है की शहर के मुख्य स्थान पर ब्यूटी पार्लर के होते हुए भी अच्छा रेस्पांस नहीं मिलता है तथा गली के अंदर जो ब्यूटी पार्लर है वह अच्छा रेस्पांस दे रहा है। इसका मुख्य कारण है ब्यूटी पार्लर में वास्तु दोष का होना। वास्तु दोष होने पर सकारात्मक ऊर्जा(Positive Energy) के स्थान पर नकारात्मक ऊर्जा (Negative Energy) इतना बढ़ जाता है की कई बार ग्राहक (customer) आपके मुख्य-द्वार के पास से आकर वापस चला जाता है अगर आप चाहते/चाहती है की ब्यूटी पार्लर को अच्छा रेस्पांस मिले तो वास्तु के निम्न नियमो के अनुरूप आतंरिक साज-सज्जा (Internal Beautification according to Vastu Sahatra) करके अंधाधुंध कमाई के पात्र बने। आइये अब हम आपको वह वास्तु टिप्स देते है जिसे आपको लागू करना है।

31 Vastu tips for office

ब्यूटी पार्लर के लिए वास्तु टिप्स ( Vastu Tips for Beauty Parlor)

beauty-parlour-kumbakonam-min

  1. ब्यूटी पार्लर का मुख्य द्वार(Main Gate) उत्तर, ईशान कोण या पूर्व में होना अच्छा होता है। यद्यपि की दक्षिण या पश्चिम में भी बनाया जा सकता है।
  2. रिसेप्शन काउंटर इस प्रकार बनाये की रिसेप्सनिस्ट का मुख हमेशा ईशान, पूर्व या उत्तर में हो।
  3. दर्पण दिशा(direction of mirror) को उत्तर, पूर्व या उत्तर और पूर्व दोनों में लगाना चाहिए।
  4. मुख्य प्रवेश द्वार पर अंदर की ओर गणपति की मूर्ति स्थापित करनी चाहिए।
  5. वाश बेशिन(Wash Basin) उत्तर, इशानकोण (North-East) या पूर्व दिशा में लगाना चाहिए ।
  6. कैश काउन्टर(Cash Counter) इस प्रकार रखें की खोलने पर उसका मुख उत्तर तथा पूरब दिशा में खुले।
  7. कैश काउन्टर के आस पास मछली घर रखने से धन की वृद्धि होती है।
  8. मुख्य ब्यूटीशियन(Head Beautician) को इस प्रकार बैठना चाहिए कि उसका मुंह उत्तर या पूर्व की ओर रहे। नैऋत्य(पश्चिम-दक्षिण) में नहीं बैठना चाहिए।
  9. आग्नेय कोण(पूर्व-दक्षिण) में बिजली के स्विच व उपकरण होना चाहिए।
  10. स्टीम बाथ (steam Bath) तथा पेंट्री को आग्नेय कोण में बनाएं।
  11. ब्यूटी पार्लर के आग्नेय कोण में हमेशा एक केंडल(Candle) या लाल बल्ब (Red Light) जलाकर रखना चाहिए इससे सकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है तथा कारीगरों में कार्य करने की क्षमता बढ़ जाती है।
  12. थ्रेडिंग, वैक्सिंग, पेडीक्योर, मैनी क्योर, हेयर कटिंग, मेहंदी, कलरिंग, ट्रिमिंग आदि कार्य आग्नेय कोण (पूर्व-दक्षिण) में करें।
  13. सभी सौंदर्य प्रसाधन (All beauty product) को पश्चिम दिशा में रखें।
  14. शौचालय (Wash-Room) दक्षिण या पश्चिम दिशा में ही बनाएं।
  15. ग्राहकों को सदैव वायव्य कोण(उत्तर-पश्चिम) में बैठाना चाहिए।
  16. दीवारों व पर्दों का रंग हल्का गुलाबी, नारंगी, आसमानी और हल्का बैंगनी होना चाहिए।
  17. फिजीकल फिटनेस के लिए कोई मशीन, उपकरण आदि हो तो उन्हें नैऋत्य कोण (पश्चिम-दक्षिण) में लगाएं।
  18. मालिक  नैऋत्य कोण में इस प्रकार बैठे की बैठने पर उसका मुख उत्तर या पूर्व की ओर हो।
  19. पार्लर का नाम किसी स्त्रीलिंग शब्द से रखना चाहिए।
  20. तौलिया(Towels) का प्रयोग सफेद अथवा हल्का गुलाबी रंग का ही करना चाहिए।
  21. कूड़े-कचड़े को नैऋत्य(South-West) कोण में रखें।

 
Tagged with 

 

2 thoughts on “ब्यूटी पार्लर के लिए वास्तु टिप्स

  1. Very nice

  2. मिन्टु उपाध्याय says:

    26 अक्टुबर को पश्चीम । मे यात्रा कर अपने शिशु बालक को उसके ननीहाल ले जाना है ।।क्या यह शुभ होगा ।बालक मेष राशी है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *