राहु गोचर 2018 का मिथुन राशि पर प्रभाव | Rahu Transit Effects on Gemini

राहु गोचर 2018 का मिथुन राशि पर प्रभाव | Rahu Transit Effects on Gemini . राहु 9 सितम्बर 2017 को सिंह से कर्क राशि में प्रवेश किया है और इसी राशि में वे 24 मार्च 2019 तक भ्रमण करते रहेगा । गोचर के दौरान राहु कर्क राशि में 18 महीने 15 दिन तक भ्रमण करेगा । आइये जानते है कि राहु का सिंह से कर्क राशि में परिवर्तन से मिथुन राशि वाले जातक के जीवन के विभिन्न क्षेत्रों यथा व्यवसाय,शिक्षा,धन, भाई-बंधू, माता-पिता, परिवार, वैवाहिक जीवन इत्यादि पर क्या-क्या प्रभाव पड़ेगा।

 

राहु गोचर 2017 का मिथुन राशि पर प्रभाव

जो जातक मिथुन राशि के है उनके लिए राहु ग्रह का संचार दूसरे भाव में होगा इस कारण से आपको आर्थिक मामलों में कुछ न कुछ बढ़ोतरी होगी। इस स्थान का राहु का गोचर धन और परिवार के लिए बहुत अनुकूल नहीं होगा। आप किसी को धोखा दे सकते है या किसी के धोखे का शिकार हो सकते है। आप अपने घर से दूर जाकर धन कमाने का मौका मिल सकता है। आर्थिक दृष्टि से परेशानी आ सकती है जिसका मुख्य कारण हो सकता है आय से अधिक व्यय। यदि छात्र कही एडमिशन लेना चाहते है तो उनको इसके लिए पैसा देना पर सकता है।

राहु गोचर 2017 का मिथुन राशि पर प्रभाव | Rahu Transit Effects on Gemini

अपने मस्ती के लिए किसी से पैसो का लेनदेन न करे वरना समस्या आ सकती है यह कदम मानसिक रूप से परेशानी उत्पन्न कर सकता है। लाभ कमाने की दृष्टि से बिना सोचे समझे पैसा न लगाए अन्यथा हानि हो सकती है। यदि आपका कोई मित्र किसी नशीले पदार्थ का सेवन करता है तो उससे दूर ही नहीं अन्यथा आप भी मादक पदार्थ के सेवन का शिकार हो सकते है। बात बात में गुस्सा ना करे नही तो बनते काम बिगड़ सकते है।

दाम्पत्य जीवन ( Marriage Life ) में तनाव बना रह सकता है जिसका कारण भी आपको समझ में नहीं आएगा। वाणी दोष या ग़लतफहमी की वजह से परिवार के मध्य मतभेद हो सकते हैं।अपने कुटुंब के प्रति आपकी भाषा कठोर हो जाएगी।किसी शस्त्र के आघात से व्यक्ति की मृत्यु होने का डर बना रहता है।

यदि अशुभ ग्रह की दशा चल रही है तथा राहु के साथ गोचर में अशुभ ग्रह हो या जन्मकुंडली में अशुभ ग्रह से सम्बन्ध बन रहा हो तो कोई न कोई पारिवारिक व्याघात सहन करना पड़ सकता हैं।

आपको दांत में पायरिया तथा आँख में कंजेक्टिबाइसिस की बिमारी हो सकती है। सर्वाइकल का दर्द भी आपको परेशान कर सकता है। परिजनों की सेहत को लेकर परेशानी बढ़ सकती है।

 
Tagged with 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *