राहु गोचर 2017 का वृष राशि पर प्रभाव | Rahu Transit Effects on Taurus

राहु गोचर 2017 का वृष राशि पर प्रभाव | Rahu Transit Effects on Taurus राहु गोचर 2017 का वृष राशि पर प्रभाव | Rahu Transit effects on Taurus . वैदिक ज्योतिष ( Astrology)  में राहु-केतु क्रूर तथा छाया ग्रह ( Shadow Planets)  के रूप में स्थित है। राहु व्यक्ति के मन तथा बुद्धि को भ्रमित कर देता है। इसके के प्रभाव से व्यक्ति के जीवन में रहस्यमयी और अप्रत्याशित परिवर्तन होता है। राहु जातक के जीवन में शुभाशुभ दोनों घटना को अंजाम देने में समर्थ होता है।  किन्तु यह सब जातक की जन्मकुंडली में राहु की उच्च, नीच, केंद्र, त्रिकोण इत्यादि की स्थिति पर निर्भर करता है।

 

राहु ग्रह नया कार्य, दिवास्वप्न, धोखा, बड़ी बड़ी योजना, समाज में नया विचार की स्थापना करने या थोपने जैसी घटना को अंजाम देने में समर्थ है।

वर्तमान समय में राहु सिंह राशि में गोचर कर रहा है। राहु ग्रह की चाल वक्र ( Retrograte)  होती है इसलिए राहु 9 सितम्बर 2017 को सिंह से कर्क राशि में प्रवेश करेगा और इसी राशि में वे 24 मार्च 2019 तक भ्रमण करते रहेंगे । गोचर के दौरान राहु कर्क राशि में 18 महीने 15 दिन तक भ्रमण करेगा ।

आइये जानते है कि राहु का सिंह से कर्क राशि में परिवर्तन से वृष राशि वाले जातक के जीवन के विभिन्न क्षेत्रों यथा व्यवसाय,शिक्षा,धन, भाई-बंधू, माता-पिता, परिवार, वैवाहिक जीवन इत्यादि पर क्या-क्या प्रभाव पड़ेगा।

राहु गोचर 2017 का वृष राशि पर प्रभाव | Rahu Transit Effects on Taurus

राहु गोचर 2017 का वृष राशि पर प्रभाव

जो व्यक्ति वृष राशि के है उनके लिए राहु 9 सितम्बर 2017 से गोचर में तृतीय भाव में होगा तृतीय भाव भाई-बंधू पराक्रम, स्थानपरिवर्तन Transfer in Service , लघु यात्रा इत्यादि का भाव है अतः राहु के गोचर से जातक के जातक के पराक्रम में वृद्धि होगी। कामकाज में साहस और हिम्मत मिलेगी। राहु के गोचर से भाग्य में वृद्धि होगी।

अपने दादा से इनाम मिलने की प्रबल सम्भावना है। आपकी जान पहचान भी प्रभावशाली लोगो के साथ होगी तथा आप उत्तरोत्तर उन्नति के शिखर पर पहुंचेंगे। इस समय यदि आप योगाभ्यास करते है तो भाग्य की वृद्धि होगी।
राहु के तीसरे भाव में आने से आपके अंदर एक नई ऊर्जा का संचरण होगा और आपकी इच्छा शक्ति मजबूत होगी । जीवन में आने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए आप मानसिक रूप से तैयार रहेंगे।

लघु यात्रा ( Short Journey)  बढ़ जाएगा। आपको अपने घर से दूर रहना पड़ सकता है। आय के साधनों में बढ़ोतरी होगी। जीवन साथी या परिजन की सेहत गड़बड़ा सकती है। भविष्य की योजना बनाने तथा उसे सुधारने में ज्यादा समय लगेगा किन्तु योजना का क्रियान्वयन उस गति से नहीं होगा जिस गति से आपने योजना बनाई है।

यदि आप छात्र है तो बार बार कसम खाएंगे की अब अपना समय बर्बाद नहीं करूँगा परन्तु बार-बार आप इस गलती दुहराते ही रहेंगे इस कारण आपकी पढाई भी बाधित हो सकती है। आप ख्याली पुलाव बनाने में ज्यादा वक्त बर्बाद करेंगे।
प्रोपर्टी को लेकर कोंई अड़चन या समस्या है तो वह दूर होगी। यदि विदेश जाने की योजना ( Abroad Travel and settlement ) पहले से बना रखा है तो इच्छा पूर्ण हो सकती है। दोस्तों के छल-कपट से बचे। यदि किसी से दुश्मनी है तो उस पर भरोसा न करे तथा वह यदि कोई पेय पदार्थ पिलाता है तो न पिए वह विष ( Poision)  का भी प्रयोग कर सकता है। इस दौरान आपका कोई मूल्यवान वस्तु गुम हो सकता है अतः इस बात का विशेष ध्यान रखे।

 
Tagged with 

  • Abortion | Miscarriage combination in Birth Chart
  • Abroad Travel and Settlement Yoga in Vedic Astrology
  • 21 उपाय दिलाएगा कर्ज से मुक्ति | 21 Remedies for debt relief
  • 27 Nakshatra based Tree | नक्षत्र राशि तथा ग्रह के लिए निर्धारित पेड़ पौधे
  • 31 Vastu tips for shops / showroom | दूकान के लिए वास्तु नियम
  •    
    loading...

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *