वास्तु अनुरूप पर्दा का रंग कैसा होना चाहिए | Vastu for Curtain colors

 वास्तु अनुरूप पर्दा का रंग कैसा होना चाहिए | Vastu for Curtain colorsवास्तु अनुरूप पर्दा का रंग कैसा होना चाहिए | Vastu for Curtain colors वास्तु के अनुरूप घर का पर्दा अनेक परेशानियों से मुक्ति दिलाता है। यदि आपके घर में रोज-रोज क्लेश हो रहा है या आप आर्थिक तंगी से परेशान हो रहे है या कोई गंभीर बीमारी से परेशान हैं तो वास्तु के अनुसार घर का पर्दा निश्चित ही समस्या का समाधान ढूंढने में सहायक होगा। वास्तव में घर की साज-सज्जा और इंटीरियर में दीवारों तथा पर्दों के रंग की अहम भूमिका होती है। जिस प्रकार विभिन्न रंग के पर्दे घर की खूबसूरती में चार चाँद लगाते हैं वहीं घर में सकारात्मक ऊर्जा बनाए रखने में भी मदद करते हैं।

वास्तुशास्त्रानुसार निर्धारित पर्दे के रंग का उपयोग यदि आपने अपने घर में किया है तो निश्चित ही आपके घर में शांति व सुख-समृद्धि आती है। इसका मुख्य कारण है कि रंग का प्रभाव हमारे मन, बुद्धि और आत्मा ( ज्योतिष में क्रमशः Moon Mercury and Sun ) को सीधे ( Direct)  को प्रभावित करता है। अतः घर का रंग उस घर में रहने वाले लोगों के अंतर्मन और विचारों को निश्चित रूप से प्रभावित करेगा । इसी कारण यदि हम घर के साज-सज्जा में रंगों को भी महत्त्व दे तो हमारे घर में सकारात्मकता ऊर्जा का संचार बना रहेगा तथा घर में सुख-समृद्धि भी निश्चित रूप से बनी रहेगी।

वास्तुशास्त्र के अनुसार घर के प्रत्येक कमरे का उद्देश्य अलग-अलग होता है जैसे —

बच्चो का कमरा

अध्ययन कक्ष

नववधू कक्ष

घर के मुखिया का कमरा

डाइनिंग कक्ष

अतिथि कक्ष

पूजा का कमरा इत्यादि 

इसलिए घर के सभी कमरों में एक ही रंग की पुताई तथा परदे नहीं लगानी चाहिए। घर में दिशा तथा उद्देश्य परक कमरों के हिसाब से पर्दों का रंग रखने से अंतर्मन को शांति और शकुन मिलता है।

वास्तु शास्त्र में कहा गया है कि पर्दे हमारी कई परेशानियों को हल कर सकते हैं। बताया गया है कि हमें अपने घरों में दिशा के हिसाब से पर्दों का रंग बदलना चाहिए। अगर किसी के परिवार में प्रायः लड़ाई-झगड़े और कलह हो रही है या घर के लोगों का आपस में मनमुटाव चल रहा है तो ऐसे में घर की दक्षिण दिशा में लाल रंग ( Red Color)  के पर्दे लगाने से परिवार के लोगों का आपसी प्रेम बढ़ता है और घर में शांति आती है।

अगर आप पर कर्ज हैं और आपको पैसे की परेशानी है तो आपको आपकी घर की उत्तर दिशा में नीले रंग के पर्दे लगाने चाहिए। ऐसा करने के बाद कुछ दिनों में ही इसका असर दिखाई देने लगेगा।

अक्सर ऐसा देखा गया है कि कठिन परिश्रम करने के बाद भी मेहनत का सकारात्मक फल नहीं मिल पाता। यदि आप भी ऐसा महसूस कर रहे है तो वास्तु शास्त्र के अनुसार घर की पश्चिम दिशा में सफेद रंग के पर्दे लगाने चाहिए। ऐसा करने से आपको अपनी परेशानियों में कमी होगी।

वहीं अगर आप नौकरी की तलाश कर रहे हैं ( When I will get job) और आपको नौकरी नहीं मिल रही तो आपको घर की पूर्वी दिशा में हरे रंग ( Green Color)   के पर्दे लगवाने चाहिए।  अगर आपको व्यापार ( Business ) में भी लाभ नहीं मिल पा रहा तो भी यही करने की सलाह दी जाती है। ये सारे उपाय करने से आपको जल्द ही इसका असर दिखेगा।

आइये जानते है रंग के अनुसार पर्दा का चयन कैसे करें

हरा रंग | Green Color

हरा रंग विकास तथा सकारात्मक ऊर्जा का प्रतीक है ( Green color is the symbol of positive energy and development) । वास्तु या ज्योतिष  (Vastu and Astrology) दोनों शास्त्र ने इस रंग को शुभ माना है । यह रंग शरीर के स्नायु तंत्र ( Nervous system ) को मजबूत करके हमारे मन मस्तिष्क को स्फूर्ति प्रदान करता है यही कारण है कि इसे अच्छे स्वास्थ्य का प्रतीक भी माना जाता है इसीलिए सभी हॉस्पिटल में हरे रंग के परदे का प्रयोग होता है। यह रंग बीमार व्यक्ति को शीघ्र ही स्वस्थ्य होने का संकेत देता है यह कहता है की आप जल्द ही स्वस्थ होंगे ( Get well Soon )

घर में परदे के रूप में इस रंग का प्रयोग करने से उस स्थान का वातावरण प्रफुल्लित हो जाता है। यदि आप इस रंग के पर्दे का प्रयोग अध्ययन कक्ष (स्टडी रूम में) में करते है तो एकाग्रता बढ़ती है इससे बच्चों के अन्तःचेतना में रचनात्मक विकास होता है। पूर्व दिशा ( East Direction ) में हरे रंग के पर्दे का उपयोग करते है तो आप मन, वचन और कर्म से सात्विक तथा अग्रसोची होंगे।

पर्पल रंग | purple color

यह रंग पूर्णतः विश्वास और निष्ठा का प्रतीक है। इसलिए अपने कमरों में हल्का पर्पल रंग के पर्दे का उपयोग करने से घर का पूरा वातावरण शांत और खुशनुमा बना रहेगा। किसी हद तक यह रंग व्यक्ति को आध्यात्म से भी जोड़ने की कोशिश करता है।

लाल रंग | Red Color

लाल रंग बहादुरी और शक्ति का प्रतिक है। बेडरूम में इसका प्रयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि इसका असर दिमाग पे बहुत तेजी से होता है। इसका प्रयोग किसी कमरें में भी नहीं करना चाहिए। छोटी-छोटी बातों में नर्वस होने वाले व्यक्ति को बहुत ही नुकशानदायक साबित होता है ये रंग।दक्षिण दिशा के कोने का कमरा हो तो लल रंग के पर्दे उपयुक्त रहते हैं।

पीला रंग | Yellow Color

पिला वा पीत वर्ण ज्ञान, तपस्या, पोषण, धैर्य तथा आध्यात्मिकता का प्रतीक है। पूजा घर में इस रंग का प्रयोग करना श्रेष्ठकर माना जाता है अतः पूजा घर मे यदि आप पर्दे के उपयोग कर रहे है तो पीला रंग का पर्दा लगाना चाहिये।
यह रंग उस कमरे की चमक व रौशनी को बढ़ाने में भी सहायक है जहाँ प्रत्यक्ष रूप से प्राकृतिक प्रकाश का अभाव है। यदि घर में पढ़े लिखे लोगो की कमी है तथा आप महशुस कर रहे है की घर में पढाई का माहौल बने तो हल्का पिले रंग का धारीनुमा पर्दा निश्चित ही आपके सपने को साकार करने में मदद करेगा। दक्षिण-पूर्वी कमरे में पीले या नारंगी रंग का प्रयोग करना चाहिए,

नारंगी रंग | Orange Color

यह रंग रचनात्मकता, आत्मसम्मान,सकारात्मक विचार और धार्मिकता का प्रतीक है। इस रंग का प्रभाव हमारे मन मस्तिष्क में होने वाले विचारों पर पड़ता है। यह रंग आपके सोच में गंभीरता लाता है।

यदि आपसी रिलेशनशिप में परेशानी हो रही है तो आपको अपने बैडरूम में इस नारंगी रंग का पर्दा लगाना चाहिए इससे सम्बन्धो में प्रग्राढ़ता तथा मधुरता आएगी।

वास्तु अनुरूप पर्दा का रंग कैसा होना चाहिए | Vastu for Curtain colors

गुलाबी रंग | Pink Color

गुलाबी रंग सहज ही व्यक्ति के मन को मोह लेने वाला है। इस रंग के देखने मात्र से अंग-प्रत्यंग में कामुकता की लहर दौर जाती है। इसी कारण दक्षिण-पश्चिम दिशा में स्थित बैडरूम में इस रंग का पर्दा लगाना शुभ माना गया है। हल्क़ा पिंक / गुलाबी रंग के पर्दा लगाने से मानसिक शांति, रिश्तों में मधुरता तथा दाम्पत्य जीवन ( Marriage Life)  रोमांस से भरा रहता है।

काला रंग | Black Color

काले रंग का उपयोग कभी भी घरों की सजावट में नहीं करना चाहिए, क्योंकि इससे नकारात्मकता बनी रहती है। इससे घर का पूरा माहौल निराशाजनक और तनावपूर्ण बना रहता है।

वास्तु अनुरूप पर्दा का रंग कैसा होना चाहिए | Vastu for Curtain colors

नीला रंग | Blue Color

उत्तर दिशा के कमरे में नीले रंग के पर्दे लगाने चाहिए। यह रंग हमारे सपने को साकार तथा समृद्धि और सुकून देने वाला माना जाता है। इस रंग के परदे का प्रयोग मुख्य रूप से मेडिटेशन रूम, बेडरूम और ड्राइंग रूम में करना चाहिए। इस रंग के प्रभाव से जातक में शांति और धैर्य का विकास होता है।

सफेद वा क्रीम रंग | White Color

यह रंग शांति प्रदान करने वाला रंग है। यह रंग सर्वगुण सम्पन्न है। यदि आपका बेडरूम के उत्तर-पश्चिम या केवल पश्चिम दिशा में है तो आप क्रीम या सफेद रंग के परदे लगा सकते है। ड्राइंग रूम में भी आप क्रीम या सफेद रंग के परदे का प्रयोग कर सकते हैं।

 

दिशा के अनुसार करे पर्दे का चयन

दिशा | Directionरंग | Colors
उत्तरनीला
उत्तर-पूर्वीहरा, नीला, बैंगनी
पूर्वहरा
पूर्वी-दक्षिणपीले या नारंगी
दक्षिण दिशालाल रंग
दक्षिणी-पश्चिमहल्का गुलाबी, नींबू जैसा पीला
पश्चिमक्रीम, सफेद,
उत्तर-पश्चिमस्लेटी रंग

 

Tagged with 
About Dr. Deepak Sharma
Dr. Deepak Sharma is an expert in Vedic Astrology and Vastu with over 21 years experience in Horary or Prashn chart, Career, Business, Marriage, Compatibility, Relationship and so many other problems in life path. Remedies suggested by him like Mantra, Puja, donation, Rudraksh Therapy, Gemstone etc. For an appointment, come through Astro Services email - drdk108@gmail.com. Phone No 9643415100 ( Please don`t call me for free counsultation )

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *