Jupiter Transit Libra and Effects on Gemini in Hindi

Jupiter Transit Libra and Effects on Gemini in HindiJupiter Transit Libra and Effects on Gemini in Hindi | गुरु का तुला में गोचर का मिथुन राशि पर प्रभाव  गुरु / बृहस्पति का गोचर तुला राशि में, 12 सितंबर 2017 को होगा। इसी राशि में वे 12 सितम्बर 2018 तक भ्रमण करते रहेंगे। इस गोचर का प्रभाव विभिन्न राशियों पर भिन्न भिन्न रूप में पड़ेगा। आइये जानते है कि बृहस्पति/ गुरु का कन्या से तुला राशि में जाने से जीवन के विभिन्न क्षेत्रों यथा धन, भाई-बंधू, माता-पिता, परिवार, शिक्षा, व्यवसाय, वैवाहिक जीवन,( Marriage life)  संतान  इत्यादि पर कितना प्रभाव पड़ेगा। गुरु इस राशि में सर्वप्रथम मंगल( Mars ) के चित्रा नक्षत्र में भ्रमण करेंगे उसके बाद राहु तथा गुरु के नक्षत्र में परिभ्रमण करेंगे। वही नवांश में तुला राशि से लेकर मिथुन राशि ( Mithun Rashifal 2017)  तक क्रमशः परिभ्रमण करेंगे। गुरु ज्ञान, धन तथा शुभ फल का कारक ग्रह होने के कारण शुभ फल देता है परन्तु तुला राशि में गुरु अपने शत्रु स्थान में होगा अतः पूर्णतः शुभत्व प्रदान करने में असमर्थ होगा।

 

यहां लग्न तथा चंद्र राशि को आधार मानकर, गुरु का द्वादश राशियों पर क्या प्रभाव पड़ने वाला है का विस्तृत वर्णन किया जा रहा है। कुंडली में चन्द्र ( Moon ) जिस राशि में होता है उसे ही राशि या चन्द्र राशि कहते है। आइये जानते है ! गुरु का गोचर में तुला राशि में आने से मिथुन राशियों पर क्या-क्या असर पड़ेगा है।

मिथुन राशि तथा लग्न वालो की जन्मकुंडली में वृहस्पति का गोचर( Transit of Jupiter ) पंचम भाव ( Fifth House ) में हो रहा है। पंचम भाव लक्ष्मी, संतान, बुद्धि, प्यार( Love ) शेयर मार्किट ( Share market ) धन इत्यादि का भाव/ स्थान है अतः जातक को इन विषयों से सम्बंधित शुभ तथा अशुभ फल की प्राप्ति होगी।

शेयर मार्केट में पैसा सोच-समझकर ही लगाए अचानक लाभ तथा हानि दोनों के लिए तैयार रहे। आप जितना सोचेंगे उससे कम लाभ होगा । जिसके कारण आप मानसिक तनाव ( Depression )   में भी आ सकते है । यदि आप छात्र है तो शिक्षा के क्षेत्रों  में सफलता मिलेगी । इस सफलता में विलम्ब भी संभावित है । यदि आप कही किसी कोर्स में एडमिशन लेना चाहते है तो किंचित परेशानी के साथ एडमिशन मिलेगा ।

कार्यस्थल पर कोई नया प्रोजेक्ट पर भी काम करना पर सकता है नौकरी करने वाले जातक को नए दायित्व का निर्वहन करने के लिए तैयार रहना चाहिए। यदि प्रोन्नति (promotion) के लिए सोच रहे है तो इसका लाभ मिल सकता है। साझेदारी में कार्य करने का अवसर मिलेगा। व्यापार तथा व्यवसाय में लाभ  होगा परन्तु जल्दबाजी न करे।

आप अपने बुद्धि कौशल से भाग्य का निर्माण करेंगे। भाग्यवृद्धि में संतान पक्ष का सहयोग ले सफलता कदम चूमेगी। आपको अपने मित्रों  का सहयोग (Help of friends) मिलेगा तथा नए मित्र भी बनेंगे। आपके घर परिवार में किसी न किसी प्रकार का शुभ कार्य का आयोजन निश्चित ही होगा। संतान पक्ष से कुछ कष्ट हो सकता है।

स्वास्थ के दृष्टिकोण से वृहस्पति का गोचर ठीक ही रहेगा परन्तु पेट से सम्बन्धित बिमारी परेशान कर सकता है। आपका सामाजिक दायरा बढे़गा तथा धर्म स्थलों पर जाने तथा धार्मिक कार्यो से जुड़ने का अवसर मिल सकता है।

 
Tagged with 

  • 31 Vastu tips for shops / showroom | दूकान के लिए वास्तु नियम
  • 51 Vastu Dosh Remedies | 51 वास्तुदोष निवारण सूत्र
  • Abroad Travel and Settlement Yoga in Vedic Astrology
  • Achala Saptami Vrat – सूर्योपासना का व्रत है अचला सप्तमी
  • Astrological Combination for Transfer in Service
  • Astrological remedies for career or professional growth
  • Divorce Line in Palm|हथेली में तलाक रेखा
  • Divorce or Separation in Astrology
  • Effect of Finger in Tilak | किस उंगली से करे तिलक
  •    

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *