About Dr. Deepak Sharma

Dr. Deepak Sharma is an expert in Vedic Astrology and Vastu with over 21 years experience in Horary or Prashn chart, Career, Business, Marriage, Compatibility, Relationship and so many other problems in life path. Remedies suggested by him like Mantra, Pooja, donation, Rudraksha Therapy, Gemstone, etc. My consultancy fee is 1100 Rs for horoscope analysis. Please don`t call me for a free consultation . For consultancy click Astro Services email - drdk108@gmail.com. Phone No 9868549875, 8010205995 ( whatsapp No)
Website: https://www.astroyantra.com
Dr. Deepak Sharma has written 647 articles so far, you can find them below.

Mars in 2nd house gives immense wealth in Vedic astrology

Mars in 2nd house gives immense wealth in Vedic astrology. Mars provides auspicious results in the second house, but only when Mars is in a strong position. The 2nd house is the house of wealth, speech and family. In this place, Mars provides materialistic achievements and pleasure. You will be distinguished among scholarly virtues and […]
0
Jupiter Transit - गुरु के मकर में गोचर का विभिन्न भाव में फल

Jupiter Transit Capricorn – गुरु के मकर में गोचर का विभिन्न भाव में फल

Jupiter Transit Capricorn – गुरु के मकर में गोचर का विभिन्न भाव में फल. गुरु / बृहस्पति इस समय गोचर में मकर राशि ( Capricorn Sign ) में 20 नवम्बर 2020 से लेकर 5 अप्रैल 2021 तक रहेगा। पुनः गुरु 6 अप्रैल 2021 को कुम्भ में प्रवेश करेंगे और 14 सितम्बर 2021 को पुनः वक्री […]
0
माता चंद्रघंटा की पूजा-अर्चना से शक्ति और मणिपुर चक्र जाग्रत होता है

माता चंद्रघंटा की पूजा-अर्चना से शक्ति और मणिपुर चक्र जाग्रत होता है

माता चंद्रघंटा की पूजा-अर्चना से शक्ति और मणिपुर चक्र जाग्रत होता है. माता दुर्गा की तृतीय शक्ति है चंद्रघंटा । नवरात्रि के तृतीय दिवस में माता के इसी स्वरूप की पूजा की जाती है। मां दुर्गा से देवी चन्द्रघण्टा तृतीय रूप में असुरों के विनाश के लिए प्रकट हुई। देवी चंद्रघंटा ने भयंकर दैत्य सेनाओं […]
0

Papankusha Ekadashi 2021 – पापाकुंशा एकादशी व्रत पूजा विधि और महत्त्व

Papankusha Ekadashi 2021 – पापाकुंशा एकादशी व्रत पूजा विधि और महत्त्व.  भारतीय संस्कृति में एकादशी व्रत का  विशेष महत्व है । महाभारत काल में स्वयं भगवान श्री कृष्ण ने धर्मराज युधिष्ठिर को पापाकुंशा एकादशी व्रत का महत्व बताया है।  श्री कृष्ण जी  ने कहा कि यह एकादशी व्रत समस्त पाप कर्मों से व्यक्ति की रक्षा […]
0
Dussehra 2020 - जानें ! कब मनायी जाएगी दशहरा 25 या 26 अक्टूबर

Dussehra 2021 – जानें ! 2021 में कब मनायी जाएगी दशहरा

Dussehra 2021 – जानें ! कब मनायी जाएगी दशहरा  . ‘विजयदशमी’ या दशहरा का पर्व आश्विन शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को मनाया जाता है। वस्तुतः रावण पर भगवान श्री राम की जीत के उपलक्ष्य में विजयदशमी वा दशहरा का ये त्यौहार मनाया जाता है। यह पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। […]
0

Mars in 1st House – Makes Healthy, wealthy and wise

Mars in 1st House makes Healthy, wealthy and wise. Mars situated in the first house gives courage due to which it also becomes angry. Again courage and anger together make them cruel which is sometimes fatal for the native. In the first house, Mars is not good for married life. Mars gives Manglik dosh in […]
2

Retrograde Planets Effects – वैदिक ज्योतिष में वक्री ग्रह का फल

Retrograde Planets Effects – वैदिक ज्योतिष में वक्री ग्रह का फल. वैदिक ज्योतिष में वक्री ग्रह को विशेष महत्त्व दिया गया है यदि आपके जन्मकुंडली में कोई ग्रह वक्री अवस्था में है तो उसके फल कथन में विशेष रूप से सावधानी रखनी चाहिए। वक्री ग्रह का कुंडली में होना कुछ विशेष संकेत देता है। वक्री […]
0
Papankusha Ekadashi 2020 - पापाकुंशा एकादशी व्रत पूजा विधि और महत्त्व

Adhikmas 2020 | अधिकमास, मलमास, पुरुषोत्तम मास कब, क्यों और कैसे ?

Adhikmas 2020 | अधिकमास, मलमास, पुरुषोत्तम मास कब, क्यों और कैसे ? हिंदू कैलेंडर में सौर वर्ष और चांद्र वर्ष में सामंजस्य स्थापित करने के लिए प्रत्येक तीन वर्ष में एक चान्द्रमास की वृद्धि कर दी जाती है। इस वृद्धि को अधिमास, अधिकमास, मलमास या पुरुषोत्तम मास कहते हैं। पुरुषोत्तम मास के संबंध में कहा […]
2
Muntha Effects in Astrology | जन्मकुंडली में मुंथा का प्रभाव

Muntha Effects in Astrology | जन्मकुंडली में मुंथा का प्रभाव

Muntha Effects in Astrology | जन्मकुंडली में मुंथा का प्रभाव. मुंथा वास्तव में कोई ग्रह नहीं है परन्तु वर्ष कुण्डली में गणना के संदर्भ में इसका उपयोग विशेष रूप से किया जाता है। जातक के जन्म कुण्डली में मुन्था हमेशा लग्न में ही होती है और प्रत्येक साल यह एक राशि आगे की ओर बढ़ […]
0
Retrograde Planets Effects - वैदिक ज्योतिष में वक्री ग्रह का प्रभाव और महत्त्व

Retrograde Planets – जानें ! ग्रह क्यों और कैसे वक्री होते हैं ?

Retrograde Planets – जानें ! ग्रह क्यों और कैसे वक्री होते हैं ? ज्योतिष में नव ग्रहों के आधार पर भविष्य कथन किया जाता है। इन ग्रहों के मार्गी और वक्री पर विशेष रूप से ध्यान दिया जाता है। वैदिक ज्योतिष में वक्री ग्रह क्यों वक्री होते है ? तथा जातक के ऊपर उसका क्या […]
0